समाज रस

                        सवाल

 

 

मन में उठ्ठा एक सवाल,

आसमॉ गर होता लाल।

 

मछलियॉ आकाश में उड़ती !

पंछी सब धरती पर चलते !

 

ईंन्सानों के पंख जो होते !

प्राणी गाते सूर और ताल ।…मन में….

 

मुकुट जो होता फकीर के सर पे !

और राजा के भिक्षा पात्र !

 

फ़कीर-साईं होते महाराजा !

महाराजा होते कंगाल !…मन में

 

सोने की जो खेती होती !

अमृत की जो बारिश होती !

 

सूरज में जो ठंडक होती !

चंदा बरसाता अगनज्वाल !…मन में !

 

खून अगर होता बेरंगी !

पानी होता रंगबेरंगी !

 

महीने कईं हफ़्ते बनाया जाते !

घंटे बन जाते कईं साल !… मन में !

 


4 टिप्पणियाँ


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s